उसके पास सिर्फ मन होता है और कुछ नहीं

New Delhi: संन्यास का अर्थ ही यही है कि मैं निर्णय लेता हूं कि अब से मेरे जीवन का केंद्र ध्यान होगा। और कोई अर्थ ही नहीं है संन्यास का। …

Read More