Pravachan

अध्यात्म का प्रथम चरण है ‘मन की समता’

New Delhi: ओंकार स्वरूप परब्रह्म परमात्मा, जो जगत में और मेरे भीतर भी व्याप्त है, उसके साथ जुड़ने के लिए आवश्यकता है इस मन रूपी दीवार को पार करने की। …

Read More