एक-दूसरे के पूरक हैं भक्ति और ज्ञान

New Delhi: भक्ति का तात्पर्य है जो सीधे भगवद् प्राप्ति करा दे, यह तभी संभव है जब साधक या भक्त अपने उपास्य का स्वरूप, स्वभाव और प्रभाव को जान लेता …

Read More