Pravachan

महाभारत: दार्शनिक ग्रंथ के इन प्रवचनों में समाया है सफलता का राज

New Delhi: हिंदुओं के दो महाग्रंथ हैं- रामायण और महाभारत। दोनों की कथाएं कई तरह की सीख देती हैं। दोनों ही में दी गई सीख और बातें आज के जीवन में …

Read More
Pravachan

क्रिसमस 2018: ईसा मसीह के 10 अनमोल विचार, जो देते हैं अद्भुत प्रेरणा

New Delhi: क्रिसमस (Christmas Day) को ईसा मसीह के जन्‍मदिवस के तौर पर मनाया जाता है। प्रभु यीशु ने सदैव लोगों को दया भावना अपनाकर अहिंसा की राह पर चलने …

Read More
Pravachan

जब भगवान बुद्ध ने समझाया भूख और उपदेश का संबंध

New Delhi: गौतम बुद्ध एक बार अव्वाली गांव गए। गांव में उनका उपदेश (Pravachan) सुनने के लिए हजारों लोग उपस्थित हुए। बुद्ध की सभा में गांव का एक दरिद्र किंन्तु …

Read More

कहीं आप भी पाप की पूंजी तो जमा नहीं कर रहे

New Delhi: क्या आपने कभी किसी के ऊपर हो रहे अत्याचार के विरूद्ध आवाज उठायी है। किसी कमज़ोर और लाचार को पिटता देखकर मदद के लिए आगे आएं हैं। अगर …

Read More
Pravachan

बुढ़ापा जीवन का सुनहरा अध्याय है और बुजुर्ग विश्वविद्यालय

New Delhi: बूढा आदमी दुनिया का सबसे बडा विश्वविद्यालय है। बूढे की एक एक झुर्रियों में जीवन के हजार-हजार अनुभव लिखे होते हैं। बूढे की कांपती हुई गर्दन कहती है …

Read More
Pravachan

ईमानदारी का पालन सबसे पहले खुद के स्तर पर होना चाहिए

New Delhi: रहीम चाचा नामी मूर्तिकार थे। उनकी मूर्तियों में कोई मामूली-सा भी नुक्स नहीं निकाल पाता था। एक दिन शहर से एक बड़े उद्योगपति खंबाटा जी रहीम चाचा की …

Read More
pravachan

जब सम्राट भरत ने समझाया राजधर्म और तपस्या का फर्क

New Delhi: सम्राट भरत, जिनके बारे में कहा जाता है कि उनके नाम पर हमारे देश का नाम भारत पड़ा, वे बड़े प्रतापी और सुयोग्य शासक थे। राजा भरत शासन …

Read More
Pravachan

अध्यात्म जगत क्या हैं, किसे होती है ज्ञान की प्राप्ति

New Delhi: जब आध्यात्मिक संत महात्माओं से अध्यात्म ज्ञान की प्राप्ति होती है, तब सबसे पहले निराकार ब्रह्म ज्योति का दर्शन होता है। दर्शन किसको होता है? वह जीवात्मा को …

Read More
Pravachan

देश को खंड-खंड करने पर राजनीतिज्ञ जिंदा है

New Delhi: देश की सारी राजनीति देश को खंड-खंड बनाए रखने पर जीवित है और वे ही राजनीतिज्ञ बातें करते हैं कि राष्ट्र एक कैसे हो? गुजरात का राजनीतिज्ञ जिंदा …

Read More
Pravachan

दुख को मिटाना हो, तो सुख की कल्पना छोड़नी पड़ेगी

New Delhi: यदि दुख को मिटाना हो, तो सुख की कल्पना छोड़ देनी पड़ेगी और दु:ख को ही जानना पड़ेगा। जो दुख को जानता है, उसका दु:ख मिट जाता है। …

Read More