रविवार को है कुश ग्रहणी अमावस्या, आज के दिन जरूर करें ये उपाय, घर में होगी धन-धान्य की बरसात

New Delhi: कृष्ण पक्ष की अमावस्या को कुश ग्रहणी अमावस्या के रूप में मनाया जाता है इसे देव पितृ कार्य अमावस्या आैर पिठोरी अमावस्या के नाम से भी जाना जाता है। इस वर्ष यह अमावस्या 9 सितंबर 2018 रविवार को पड़ रही है।

मान्यता है कि इस दिन इस दिन व्रत और अन्य पूजन कार्य करने से पितरों की आत्मा को शान्ति प्राप्त होती है। शास्त्रों के अनुसार अमावस्या तिथि का स्वामी पितृदेव होता है, इसीलिए इस दिन पितरों की तृप्ति के लिए तर्पण आैर दान-पुण्य का अत्याधिक महत्व होता है। इस दिन कुश से पूजा की जाती है।

कुश के कर्इ प्रकार
कुश ग्रहणी अमावस्या को विभिन्न प्रकार कुश से पूजा करने का विधान है। शास्त्रों में 10 प्रकार कुशों का उल्लेख मिलता है मान्यता है कि घास के इन दस प्रकारों में जो भी घास आसानी से मिल सके उसे पूरे वर्ष के लिए एकत्रित कर लिया जाता है। खास बात ये है कि सूर्योदय के समय घास को केवल दाहिने हाथ से उखड़ कर ही एकत्रित करना चाहिये और उसकी पत्तियां पूरी की पूरी होनी चाहिये। कुशोत्पाटिनी अमावस्या को साल भर के धार्मिक कार्यों के लिये कुश एकत्र की जाती है, क्योंकि इसका प्रयोग प्रत्येक धार्मिक कार्य के लिए किया जाता है। ध्यान रहे कुशा का सिरा नुकीला होना चाहिए आैर यदि इसमें सात पत्ती हो तो सर्वोत्तम होता है।इसका कोई भाग कटा फटा न हो आैर कुशा तोड़ते समय‘हूं फट्’ मंत्र का जाप करते रहना चाहिए।

कुश ग्रहणी अमावस्या का महातम्य
इस दिन पूर्व या उत्तर मुक्त बैठ कर ही पूजा करें। इस दिन का महत्व बताते हुए कर्इ पुराणों में कहा गया है कि रूद्र अवतार माने जाने वाले हनुमान जी कुश का बना हुआ जनेऊ धारण करते हैं इसीलिए कहा जाता है कांधे मूंज जनेऊ साजे। साथ ही इस दिन को पिथौरा अमावस्या कहते हैं आैर इस दिन दुर्गा जी की पूजा की जाती है। पौराणिक मान्यता के अनुसार स्वयं पार्वती जी ने देवराज इंद्र की पत्नी इंद्राणी को इस व्रत का महत्व बताया था। इस दिन विवाहित स्त्रियों द्वारा संतान प्राप्ति आैर उसकी कुशलता की कामना के लिये उपवास किया जाता है और दुर्गा सहित सप्तमातृ आैर 64 अन्य देवियों की पूजा की जाती है।

जरूर करें ये काम
अमावस्या को पीपल के पेड़ के नीचे दीया जलाने से पितृ और देवता प्रसन्न होते हैं। इस दिन सुबह-शाम घर के मंदिर और तुलसी पर दीया लगाने से कलह और दरिद्रता मिटती है। प्रत्येक अमावस्या को घर की सफाई कर सभी प्रकार का कबाड़ घर से निकाल दें, इससे रुके काम बनते हैं और बाधाएं दूर होती हैं। इसके प्रभाव से घर में धन-धान्य की कोई भी कमी नहीं रहती।

नियम से प्रत्येक अमावस्या को गौमाता को 5 फल भी नियमपूर्वक खिलाने चाहिए। घर में शुभता एवं हर्ष का वातावरण बना रहता है। अमावस्या की तिथि को कोई भी नया कार्य, यात्रा, क्रय-विक्रय तथा समस्त शुभ कर्मों को निषेध कहा गया है इसलिए इस दिन इन कार्यों को नहीं करना चाहिए।

अमावस्या के दिन एक किसी ब्राह्मण, याचक या निर्धन को भोजन अवश्य ही कराएं। भोजन में दूध की बनी वस्तु अवश्य हो। यह पितरों को प्रसन्न करता है और शुभ कार्यों में अड़चनें नहीं आतीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *